Warning: include_once(/home/karmveer/public_html/wp-content/plugins/wp-super-cache/wp-cache-phase1.php): failed to open stream: No such file or directory in /home/karmveer/public_html/wp-content/advanced-cache.php on line 22

Warning: include_once(): Failed opening '/home/karmveer/public_html/wp-content/plugins/wp-super-cache/wp-cache-phase1.php' for inclusion (include_path='.:/opt/cpanel/ea-php73/root/usr/share/pear') in /home/karmveer/public_html/wp-content/advanced-cache.php on line 22
पीआई इंडस्ट्रीज ने 1,448.5 करोड़ रुपये के शेयरों पर कोच्चि के व्यवसायी के दावे को नकारा

पीआई इंडस्ट्रीज ने 1,448.5 करोड़ रुपये के शेयरों पर कोच्चि के व्यवसायी के दावे को नकारा

तिरुवनंतपुरम, 17 अक्टूबर (आईएएनएस)। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) में सूचीबद्ध प्रतिष्ठित कंपनियों में से एक और अपने क्षेत्र में मार्केट लीडर पीआई इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने कोच्चि के एक व्यवसायी बाबू वलावी के इस दावे का खंडन किया है कि उनके पास शेयर थे और जिस कंपनी को मौद्रिक रूप से स्थानांतरित किया गया था, उसे 1,448. 5 करोड़ रुपये की राशि मिलेगी।।

कोच्चि स्थित व्यवसायी ने दावा किया कि उसके और उसके परिवार के करीबी सदस्यों के पास उदयपुर स्थित मेवाड़ ऑयल्स एंड जनरल मिल्स के 3,500 शेयर थे, जो एक गैर-सूचीबद्ध कंपनी थी जो उस समय खाद्य तेल बना रही थी।

उन्होंने कहा कि यह 1978 में था और वर्षों से कंपनी ने अपना नाम बदलकर पीआई इंडस्ट्रीज कर लिया और अपने व्यवसाय को रसायनों और कीटनाशकों के निर्माण में विस्तारित किया और अब इसका मार्केट कैप 50,000 रुपये है।

बाबू वलावी ने यह भी दावा किया था कि जब परिवार ने शेयर खरीदे थे, तब कंपनी में उनकी 2.8 प्रतिशत हिस्सेदारी थी और अब वलवी परिवार का स्वामित्व 42.28 लाख शेयरों में तब्दील हो गया है।

हालांकि, पीआई इंडस्ट्रीज ने कोच्चि व्यवसायी के दावों का खंडन किया और स्पष्ट किया कि इसे 1946 में शामिल किया गया था और यह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज दोनों में पब्लिक लिमिटेड कंपनी के रूप में सूचीबद्ध है और यह अत्यधिक मूल्यवान कंपनियों में से एक है और एक मार्केट लीडर है।

कंपनी ने यह भी कहा कि वलावी परिवार ने 1989 में ही उनके द्वारा रखे गए सभी शेयरों को बेच दिया था और उक्त हस्तांतरण कंपनी के रिकॉर्ड के साथ-साथ वर्ष 1988-89 के लिए कंपनी के वार्षिक रिटर्न में दर्ज किया गया था और इसे कंपनी रजिस्ट्रार, जयपुर के समक्ष दायर किया गया था।

पीआई इंडस्ट्रीज ने यह भी कहा कि वलावी परिवार ने अपनी कथित शेयरधारिता के बारे में 2015 में ही कंपनी से संपर्क किया था और कंपनी ने तब जवाब दिया था कि परिवार द्वारा रखे गए सभी शेयर 1989 में ही बेचे गए थे।

कंपनी ने यह भी कहा कि वलावी परिवार ने कुछ और वर्षों के बाद सेबी के साथ 2018, 2019 और 2021 में इसी मुद्दे पर तीन सेट शिकायतें दर्ज कीं और कहा कि सेबी ने कंपनी के पक्ष में सभी शिकायतों को बंद कर दिया। पीआई इंडस्ट्रीज ने यह भी कहा कि वलावी परिवार ने सेबी के फैसले को चुनौती भी नहीं दी।

कंपनी ने यह भी कहा कि वलावी परिवार ने अपने कथित शेयरों का मूल्यांकन अविश्वसनीय रूप से 1,448 करोड़ रुपये किया है और इस संबंध में कोई तर्क या तर्क नहीं दिया गया है। पीआई इंडस्ट्रीज के कंपनी सचिव ने बयान में कहा, जब वलावी परिवार ने 1978 में हमारे शेयर खरीदे थे, तो उनकी हिस्सेदारी 11.90 लाख रुपये की कुल चुकता पूंजी का 2.8 प्रतिशत थी। हालांकि 1988-89 तक, लगभग उनके शेयरों की बिक्री, उनकी हिस्सेदारी घटकर 0.88 प्रतिशत हो गई थी क्योंकि वलावी परिवार ने कंपनी द्वारा किए गए तीन राइट्स इश्यू की सदस्यता नहीं ली थी।

–आईएएनएस

एसजीके

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *