देश

कोविड-19 : एनआईटी-जमशेदपुर और यूएई ने शुरू किया साझा प्रोजेक्ट

नई दिल्ली, 20 अक्टूबर (आईएएनएस)। एनआईटी-जमशेदपुर के गणित विभाग ने यूएई की अजमान यूनिवर्सिटी के साथ एक इंटरनेशनल प्रोजेक्ट शुरू किया है। इंटरनेशनल प्रोजेक्ट कोरोना वायरस के प्रसार को समझने में मददगार साबित होगा। संस्थान द्वारा शुरू किए प्रोजेक्ट को लेकर शिक्षा मंत्रालय का कहना है कि ऐसे प्रोजेक्ट भारतीय संस्थानों तथा भारतीय शिक्षा को वैश्विक पटल पर एक नया नेतृत्व देंगे।

एनआईटी-जमशेदपुर के छात्रों द्वारा कोरोना संकट काल के दौरान एक एप भी बनाया है, जिससे कोविड-19 मरीजों की मॉनिटरिंग की जा सकेगी और उनकी सुरक्षा सुनिश्चित की जा सकेगी। हजारीबाग जिला प्रशासन ने इस एप का प्रयोग भी किया है।

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने एनआईटी जमशेदपुर द्वारा किए गए कार्यो की सराहना करते हुए कहा, “भारत सरकार स्टडी इन इंडिया, स्टे इन इंडिया तथा शिक्षा के अंतर्राष्ट्रीयकरण के माध्यम से भारत को शिक्षा के वैश्विक हब के रूप में स्थापित करने के लिए प्रतिबद्ध है। हमारी इस प्रतिबद्धता को पूरा करने के लिए एनआईटी-जमशेदपुर जैसे संस्थानों की सहयोगी भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण होगी।”

उन्होंने कहा, “12 विभागों के साथ एनआईटी जमशेदपुर प्रतिवर्ष लगभग 1300 छात्रों को बहुआयामी शिक्षा प्रदान कर रहा है। शिक्षा, अनुसंधान, प्रौद्योगिकी, नवाचार के साथ-साथ एंटरप्रेन्योरशिप के क्षेत्र में भी देश के उत्कृष्ट केंद्र के रूप में उभर रहा है। इस वर्ष इस संस्थान ने प्रति फैकेल्टी 1.61 पब्लिकेशन तथा कुल 234 प्रकाशन किए हैं। साथ ही इसने 8 पेटेंट, जिसमें से 5 इस वर्ष प्रकाशित किए हैं।”

केंद्रीय मंत्री निशंक ने एनआईटी जमशेदपुर के 60 वर्ष पूरे होने के अवसर पर मंगलवार को संस्थान में हीरक जयंती व्याख्यान कक्ष परिसर का उद्घाटन किया।

कोरोना संकट काल में एनआईटी-जमशेदपुर द्वारा किए गए अन्य कार्यो का उल्लेख करते हुए निशंक ने कहा, “एनआईटी-जमशेदपुर के रसायन विज्ञान विभाग ने झारखंड के पश्चिमी सिंहभूम, सरायकेला जैसे जिलों के लिए सैनिटाइजर का भी उत्पादन किया है। इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में फिर से प्रयोग किए जा सकने वाले मास्क और जागरूकता अभियान, जरूरतमंद लोगों को खाद्य सामग्री जैसी वस्तुएं व अन्य प्रशिक्षण सुविधाएं देकर संस्थान ने महामारी प्रदत्त चुनौतियों का पूरी कुशलता के साथ सामना किया है।”

संस्थान के स्वच्छ भारत अभियान, फिट इंडिया मूवमेंट जैसे कार्यक्रमों में सक्रिय योगदान की प्रशंसा करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा, “एनआईटी-जमशेदपुर द्वारा गोद लिए गए गांव में नुक्कड़ नाटक तथा अन्य कार्यक्रमों की मदद से सफाई के लिए जागरूकता फैलाना, अपने कैंपस को सैनिटाइज करना, कैंपस में क्वारंटाइन योगा प्रोग्राम, आर्ट ऑफ लिविंग प्रोग्राम, मेडिटेशन तथा आध्यात्मिक मूल्यों के लिए वर्कशॉप आयोजित करना, जैविक कृषि तथा अपशिष्ट प्रबंधन जैसे क्षेत्रों में कार्य करना आदि इस संस्थान के अत्यंत सराहनीय कार्य है।”

–आईएएनएस

जीसीबी/एसजीके

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *