Country देश सिनेमा

यह ‘थप्पड़’ समाज की दकियानूसी विचारधारा पर है

यह ‘थप्पड़’ समाज की दकियानूसी विचारधारा पर है ! ●प्रदीप शर्मा ‘आर्टिकल—15’ के बाद अनुभव सिन्हा द्वारा निर्देशित फिल्म ‘थप्पड़’ बड़े पर्दे पर आई । ‘थप्पड़’के जरिए फिल्मकार अनुभव सिन्हा ने भारतीय समाज में महिलाओं को लेकर स्थापित हो चुके दकियानुसी विचारों और पितृ सत्तात्कमक रिवाजो पर सही मायने में जोरदार थप्पड़ मारा है । […]

Country देश सिनेमा

सियासत के खेल में उलझकर रह गया लाईट, कैमरा, एक्शन …!

सियासत के खेल में उलझकर रह गया लाईट, कैमरा, एक्शन …! ▪प्रदीप शर्मा साहित्य और सिनेमा को समाज की मशाल कहा जाता है । आजादी के पहले और आजादी के बाद अब तक सिनेमा ने, खासकर भारतीय समाज में मूल्यों और उसके विचार करने के तौर तरिकों को बहुत हद तक बदला है । जहां […]