देश

गांधी के गृहराज्य में 3 दिवसीय बिहार महोत्सव शुरू

पटना/अहमदाबाद, 29 फरवरी (आईएएनएस)| बिहार की कला, संस्कृति एवं युवा विभाग द्वारा अहमदाबाद (गुजरात) में आयोजित तीन दिवसीय ‘बिहार महोत्सव’ का शुभारंभ शुक्रवार की शाम को हो चुका है। महोत्सव का उद्घाटन टैगोर हॉल में दीप प्रज्ज्वलित कर बिहार के मंत्री प्रमोद कुमार ने मुख्य अतिथि व गुजरात सरकार के मंत्री ईश्वर सिंह पटेल के साथ मिलकर किया। इस मौके पर गुजरात सरकार के खेलकूद, युवा एवं सांस्कृतिक प्रवृत्ति विभाग के मंत्री ईश्वर सिंह पटेल ने बिहार सरकार की सराहना करते हुए इस महोत्सव को दो राज्यों के सांस्कृतिक समागम के लिए अति महत्वपूर्ण बताया। उन्होंने कहा कि बिहार से आए बिहार सरकार के मंत्री व अधिकारियों के साथ सभी सांस्कृतिक दलों का गुजरात की धरती पर अभिनदंन है।

उन्होंने कहा, “यह हम गुजरातवासियों सौभाग्य है कि बिहार की समृद्ध सांस्कृतिक की विरासत की एक झलक यहां अहमदाबाद में देखने को मिल रही है।”

वहीं बिहार कला, संस्कृति एवं युवा विभाग के मंत्री प्रमोद कुमार ने कहा कि, भारतीय संस्कृति दुनिया में अद्वितीय है और भारत की अतुल्य सांस्कृतिक पहचान की हृदय स्थली बिहार है। इसकी सांस्कृतिक पृष्ठभूमि अतुल्यनीय है।

उन्होंने कहा, “इसी विरासत की शानदार प्रस्तुति है ‘बिहार महोत्सव’, जिसका आयोजन इस वर्ष गुजरात की सांस्कृतिक राजधानी माने जाने वाले शहर अहमदाबाद में 28 फरवरी से 1 मार्च तक टैगोर हॉल में किया जा रहा है। ‘बिहार महोत्सव’ की शुरुआत साल 2006 -07 में कोलकाता (पश्चिम बंगाल) से हुई थी। उसके बाद भारत के अन्य राज्यों के शहरों इलाहाबाद, जयपुर, गुवाहाटी, गोवा में आयोजित हो चुकी है।”

उन्होंने कहा कि कला, संस्कृति एवं युवा विभाग, बिहार राज्य की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को भविष्य की पीढियों के लिए संरक्षित करने और पूरे देश में एक मजबूत सांस्कृतिक जीवंतता बनाने के लिए तत्पर एवं कार्यरत है।

उन्होंने आगे कहा कि इस आयोजन की एक और बड़ी विशेषता बिहारी एवं गुजराती संस्कृति का समागम है। इस मंच से जहां बिहार के विशिष्ट संस्कृति, सांस्कृतिक कला-रूपों का प्रदर्शन हो रहा हैं, वहीं दूसरी और गुजरात के प्रसिद्ध लोक गायकी एवं नृत्य भंगिमाओं की प्रस्तुति हो रही है।

उद्घाटन सत्र के बाद गुजराती नृत्य नाटिका ‘सिद्धार्थ से बुद्ध तक’ का मंचन सुमित नागदेव डांस आर्ट, मुंबई द्वारा किया गया। इसका निर्देशन सुमित नागदेव ने किया।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *